Economy of Bihar- fasted growing state of india

नमस्कार दोस्तो ,भारत,एक ऐसा देश जहां दुनिया के हर रंग देखने को मिलते है  देश के 28 States (राज्य) और 8 Union Territories (केंद्रशासित प्रदेश)और यहाँ 130 करोड़ से भी ज्यादा रहने वाले लोग भारत को अपनी एक अलग पहचान दिलाती है । भारत की पौराणिक सभ्यता,संस्कृति, भाषा व दुनिया की सबसे बड़ी लोकतंत्र ही इसे विविधिताओ का देश बनाता है।




भारत की अर्थव्यसथा को दुनिया के टॉप विकासशील देशो मे गिना जाता है और भारत के विकासशील होने के पीछे देश के 28 States और 8 Union Territories का सहयोग बेहद एहम होता है । लेकिन इनमे से कुछ राज्य ऐसे भी है जो विकासशील राज्यों के सूची मे सबसे पीछे है जिनके पास सारी सुविधा होते हुये भी वो अक्सर आलोचना के पत्र बन जाते है हम बात कर रहे है भारत को चाणक्य, आर्यभट्ट ,डॉ राजेंद्र प्रसाद, दशरथ माँजी , भिखारी ठाकुर आदि  जैसे महान सख्सियत देने वाला राज्य Bihar (Bihar) की । वो इसलिए क्यूंकि
वर्तमान समय की बात करें तो पूरी दुनिया Coronavirus जैसे खतरनाक जानलेवा महामारी के प्रकोप से गुजर रही है जिसे सभी सहमे हुये है और इस महामारी मे भारत मे 6 लाख से अधिक लोगों को अपना शिकार बना लिया है जिसमे Bihar भी शामिल है जहां 10000 से भी अधिक लोग Coronavirus से संक्रमित है ।

लेकिन Bihar एक बार फिर पूरे विश्व मे चर्चा का विषय बन गया है क्यूंकि Bihar की चर्चा Coronavirus से कम और यहाँ के बेबस मजदूरों को लेकर ज्यादा हो रही है । प्रदेश के 27 लाख से ज्यादा मजदूर जो दूसरे राज्यों मे मजदूरी कर रहे है आज बेखर हो गए है ये बेहद शर्मनाक भी है और बेहद दर्दनाक भी इनकी ये हालत देख कर हर किसी के मन मे एक ही सवाल उठ रही है – क्या Bihar मे काम की इतनी कमी है की इतने अधिक संख्या मे लोग दूसरे राज्यों मे मजदूरी कर रहें है ? क्यूँ है Biharइतना बेबस की अपने ही लोगों का अपने ही प्रदेश मे जीवन यापन की समुचित व्यवस्था नहीं कर पा रही ? क्यूं इतने अधिक संख्या मे लोग दूसरे प्रदेश मे मजदूरी करने को मजबूर है ? देश मे लीची उत्पादन का 71% उत्पादन Bihar करता है ,देश मे स्वादिष्ट मखाना के उत्पादन का 85% उत्पादन Bihar मे होता है ,आम का 13%,मकई का 10% उत्पादन,शहद का 14% Bihar मे होता है ,फिर ऐसे हालात क्यूँ ? ऐसे कई सारे सवाल हर किसी के जेहन मे है ।


इन सभी सवालों का एक ही जवाब है वो है Bihar मे संसाधनो की कमी का होना अगर इन मजदूरों को उनके प्रदेश Bihar मे कमाई का बेहतर जरिया मिला होता तो आज वे बेघर नहीं होते । आइये कुछ आकड़ों पर नजर डालते है –
Bihar सरकार के Finance Department ने Bihar की Economy Survey 2019 -20 प्रस्तुत की है जिसके अनुसार Biharकी GDP Rate यानि Gross Domestic Product Rate ,13.3 % है जो बीते कई वर्षो के मुक़ाबले बढ़ी है , इसमे 23 % Agriculture,17 % Industries और 60% Services की भागीदारी है भारत के सभी राज्यों के GDP से Compare करे तो Bihar का देश मे 13वा स्थान है जबकि 2012-13 मे ये 8वा था और GDP per capita यानि प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पादन मे देश मे 33वा स्थान है । देश मे Vegetables के उत्पादन मे Bihar का 3rd (2018-19 के आंकड़े कहते है की ये अब 4th हो चुका है ) और Fruits Production मे 8वा स्थान है । ये तो हो गई Bihar के आधार की बात अब उन आंकड़ो को देखते है जो सबसे एहम है वो है रोजगार –

Bihar मे अगर रोजगार की बात करें तो Economy survey 2019-20 बताती है की –

Bihar के Rural Area मे 64 % Male Workers और 3.9 % Female Workers है । 2017-18 मे Rural Bihar मे 55.9 % Male Workers Self Employed है यानि ये जीवन यापन के लिए व्यापार से जुड़े है । 32.1 % Casual Labour है यानि ऐसे मजदूर जिन्हे प्रतिदिन के दिहारी पर किसी Contract के तहत काम पर रखा जाता है । बीते पाँच वर्षो मे Rural Self Employment Training Institute (RSETI) ने 1,38104(एक लाख अरतिस हजार एक सौ चार) लोगो को Tanning दिया है जिसमे 45% पुरुष और 54 % महिला शामिल है । इन सभी Trained लोगों मे 74% लोग ऐसे है जिन्होने अलग अलग क्षेत्रों मे रोजगार हासिल कर चुके है और 26% लोगों को अलग अलग योजना के तहत आर्थिक सहायता भी दी गई है ताकि वे Self-Dependent बन सके।

अगर हम बात करे बेरोजगार यानि Unemployed की तो भारत मे इसकी दर कुछ इस प्रकार है शहरी क्षेत्र मे 6.9% और ग्रामीण क्षेत्र मे 5.7 % पुरुष बेरोजगार है और महिलाओं की बात की जाए तो वे शहरी क्षेत्र मे 10.8% और ग्रामीण इलाके मे 3.8 % महिला बेरोजगार है । 

प्रदेश की बेरोजगारी दर की बार करें तो Bihar की Unemployment Rate भारत के Unemployment Rate से 5.7 Male ग्रामीण और 6.9 शहरी और 3.8 महिला इन ग्रामीण और 10.8  महिला शहरी 

Bihar की 80% जनता अपने जीवन यापन के लिए कृषि पर निर्भर करती है और प्रतिशत घटती जा रही है वर्तमान मे 73% है वर्तमान Bihar मे 50 Industrial Areas और Mega Industrial Parks है , लेकिन एक न्यूज़ Agencies के सर्वे के अनुसार कई सारे मिल्स व industries बंद पड़े है 28 sugar Mils जिसमे अब सिर्फ 10 ही Active है, प्रदेश के Active 
Food Processing Unit और Categories कुछ इस प्रकार से आप देख सकते है । –

Production clusters 
Processing Clusters 
उपर्युक्त सभी आंकड़ो को देखने के बाद आप यही कह सकते है की Bihar तो प्रगति के राह पर है,यहाँ के निवासी के लिए जीवन यापन के लिए सभी साधन उपलब्ध है चाहे वो रोजगार के साधन हो या व्यापार के अवसर। हर क्षेत्र अवसरों से भरा पड़ा है । लेकिन फिर भी देश के पिछड़े राज्यों मे अब भी Bihar का नाम आता है ऐसा इसलिए क्यूंकि Bihar की जनता अपनी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है । वर्तमान हालात को देखते हुये सबके मन मे एक ही सवाल उठता है आखिर Bihar की हालत कब सुधरेगी और कैसे सुधरेगी कौन सुधारेगा इसे क्या Bihar सरकार या केंद्र सरकार  


कैसे होगा बदलाव  

Bihar के कई सुदूर इलाकों मे ऐसे कई उद्योग है जिन्हे सरकार को विशेष ध्यान देने की जरूरत है क्यूंकि प्रदेश की ज़्यादातर जनता गावों मे रहती है और अपने जीवन यापन के लिए कृषि या छोटे मोटे उद्योग पर निर्भर करते है लेकिन समय के साथ ये उद्योग धंधे बंद होने के गागर पर है और यहाँ के लोग मजबूरन दूसरे शहरों मे मजदूरी करने जाते है क्यूंकि उन्हे उनके गाँव उनके मेहनत की कमाई उतनी नहीं जिससे वे अपना गुजर बसर कर सके ।

जरूरत है प्रदेश मे बंद पड़े वो सभी Mils को दुबारा से चालू करने की ,जरूरत है बिहार को Industry की तो असल मे बदलाव Bihar की 80 % जनता के लिए करना है तभी बदलेगा Bihar और तभी बदलेगी Bihar के हालात,बदलाव के कदम चाहे जो भी उठाए झेलना तो Bihar के निवासी को ही है ।
Bihar Population 
हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in

Sources – Google,Wikpedia,Bihar Govt.


0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x