Lassa Fever क्या है ? लस्सा बुखार क्या होता है जानिए के बारे मे पूरी जानकारी हिन्दी मे

Hello Friends हमारे देश मे या फिर यूं कहे पूरी दुनिया Corona के भयंकर प्रकोप से अभी उभरी भी नहीं है की आए दिन कई सारे बीमारी वायरस पनपती रहती है बीते दिन एक नया वाइरस दुनिया के सामने आया है जिसे कोरोना का ही नया वेरिएंट बताया जा रहा है लेकिन ये कोरोना से बिलकुल अलग है वो अपनी जगह बनाती जा रही है ऐसे मे आपको सतर्क और सुरक्षित रहना होगा । इस वाइरस का नाम है लासा वायरस (Lassa Virus) आइए जानते है इसकी पूरी जानकारी क्या है Lass Virus या Lassa Fever और इससे कैसे बचे और कैसे पहचाने ।

हम सभी कोरोना का दर्द झेल चुके है ऐसे मे हमे बेहद सतर्क रहन होगा खास तौर पर वो लोग जो अक्सर Travel करते है अलग अलग लोगों के संपर्क मे आते है उन्हे सतर्कता बरतनी होगी उन्हे ये जानना होगा की वे इन बीमारियों से कैसे बचे । 

क्या है लासा वायरस

लासा वायरस के कारण व्यक्ति को लासा बुखार (Lassa Fever) हो जाता है। माना जाता है की यह एक गंभीर हीमोरेजिक बीमारी (Hemorrhagic) होती है. इस वायरस का संबंध एरेनावाइरस (Arenavirus) परिवार से है. इसके शुरुआती लक्षण लोगों को नजर नहीं आते हैं. लेकिन यह खतरनाक समस्या है, जिसके लक्षणों के बारे में पता होना जरूरी है ।

यह संक्रमण चूहों के माध्यम से फैलता है. यदि कोई व्यक्ति चूहे के मल, मूत्र या उनके दूषित खाने के संपर्क में आता है तो लासा वायरस की समस्या हो सकती है. इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति संक्रमित व्यक्ति के तरल पदार्थ के संपर्क में आता है तब भी यह समस्या हो सकती है।

लेकिन ये वायरस कोरोनावायरस की तरह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है. अगर इसकी इनक्यूबेशन रेंज (Incubation Period) की बात की जाए तो वे लगभग 10 दिन होती है. वर्तमान मे वायरस के लिए कोई टीका अभी तक मौजूद नहीं है लेकिन एंटीवायरल दवा र‍िबाव‍िर‍िन (Ribavirin) व्यक्ति को दी जाती है ।




लासा बुखार के लक्षण 

  •     व्यक्ति के फेफड़ों में पानी भर जाना.
  •     गले में दर्द की समस्या.
  •     दस्त की समस्या हो जाना.
  •     मतली या उल्टी की समस्या.
  •     चेहरे पर सूजन नजर आना.
  •     आंतों में खून की समस्या होना.
  •     योनि से खून आना.
  •     लो ब्लड प्रेशर की समस्या होना.
  •     सांस लेने में तकलीफ महसूस करना.
  •     शरीर में कपकपाहट होना.
  •     व्यक्ति के सुनने की क्षमता का प्रभावित होना.
  •     दिमाग में सूजन आ जाना.

इसके गंभीर लक्षण की बात की जाए तो इससे पीड़ित व्यक्ति कोमा मे जा सकता है और उसकी मौत भी हो सकती है । 

लासा बुखार से बचाव 

  •     व्यक्ति को चूहे के मल-मूत्र या उसके दूषित खाने से दूर रहना चाहिए.
  •     चूहों को घर में ना आने दें.
  •     खाना खाने से पहले अपने हाथों को अच्छे से धोएं.
  •     खाने को ढ़ककर रखें.
  •     खाने से पहले प्लेट को अच्छे से धोएं.
  •     कच्चा खाना खाने से बचें.
  •     खाने को पकाकर ही खाएं.
  •     अपने घर को साफ एवं स्वच्छ रखें.

सबसे अच्छी बात ये है की वर्तमान मे हमारे देश मे इसकी ऐसी मामले सामने नहीं ये है लेकिन UK मे इस बुखार से एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है इसलिए इसकी मृत्यु दर सिर्फ 1 प्रतिशत है इसलिए डरने कोई बात नहीं है। लेकिन सतर्क रहना जरूरी है क्यूंकि ये बीमार चूहों से फैलती है और चूहा हर घर मे है इसलिए अपने घर को हमेशा साफ सफाई करते रहें ।




इसे भी पढ़ें

हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x